साध्वी जया किशोरी के हैं हजारों प्रशंसक, शादी के लिए रखी है कुछ ऐसी शर्त : #RashtraNews

0

#साध्वी जया किशोरी के हैं हजारों प्रशंसक, शादी के लिए रखी है कुछ ऐसी शर्त : Rashtra News

साध्वी जया किशोरी का कहना है कि वह भी आम लड़कियों की तरह शादी करना चाहती हैं। लेकिन शादी के लिए उनकी कुछ शर्तें हैं।

साध्वी जया किशोरी एक चर्चित कथावाचक हैं, जिनके प्रशंसक भी लाखों की संख्या में हैं। असल जीवन के अलावा सोशल मीडिया जैसे- यूट्यूब, फेसबुर और इंस्टाग्राम पर भी इनके काफी फैंस हैं। साध्वी जया एक मोटिवेशनल स्पीकर भी हैं। वह बचपन से ही भक्ति की राह पर निकल पड़ी थीं। पढ़ाई के साथ ही उन्होंने बचपन में ही भजन गाना शुरू कर दिया था।

अब उनके प्रशंसकों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। फेसबुक पर उनके वैरीफाइड अकाउंट में लाखों लोगों के लाइक और कमेंट आते हैं। जया किशोरी का यूट्यूब पर आईएमजयाकिशोरी नाम से चैनल है, जिसमें उनकी मोटिवेशनल वीडियो देखने को मिलती हैं।

जब शादी को लेकर तोड़ी थी चुप्पी: उनकी शादी को लेकर लोगों में काफी उत्साह रहता है। खबर यह भी थी कि वह शादीशुदा है, लेकिन बाद में यह महज अफवाह निकली। लोग उनकी शादी को लेकर इंटरनेट पर भी काफी सर्च करते हैं। एक इंटरव्यू में साध्वी जया ने कहा था कि वह शादी करना चाहती हैं, वह कोई संत नहीं हैं। उनका कहना था कि वह भी अन्य लड़कियों की तरह ही हैं। उन्होंने कहा था कि वह आम लड़कियों जैसा ही जीवन जीना चाहती हैं, लेकिन शादी के बाद भी वह भक्ति करना नहीं छोड़ेंगी।

शादी करने के लिए हैं शर्तें: संस्कार टीवी की एक वीडियो में जया किशोरी कहती नजर आई थीं कि क्योंकि वह कोलकाता की रहने वाली हैं, तो उनकी शादी भी कोलकाता में ही हो। जिससे वह अपने घर आ-जा सकें। अगर उनकी शादी कहीं दूर होती है, तो वह चाहती हैं कि उनके माता-पिता भी वहीं आसपास घर लेकर रहें।

यूथ आइकॉन हैं जया किशोरी: भगवान कृष्ण की भक्ति में लीन हैं, उनके भजनों के लोग दीवाने हैं। उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। साल 2019 में साध्वी को फेम इंडिया एशिया पोस्ट सर्वे 2019 का यूथ आइकॉन अवार्ड भी मिला था।

ऐसे बनीं साध्वी: साध्वी का असली नाम जया शर्मा है, उनके घर में हमेशा से भक्तिमय माहौल रहा है। उनका पूरा परिवार खाटू श्याम की भक्ति करता है। 9 साल की उम्र में साध्वी ने संस्कृत में लिंगाष्टकम्, मधुराष्टकम्, श्रीरुद्राष्टकम्, शिव-तांडव स्तोत्रम्, रामाष्टकम्, दारिद्रय दहन शिव स्तोत्रम् और शिवपंचाक्षर स्तोत्रम् सहित कई स्तोत्र गाए थे। छोटी सी उम्र में साध्वी की इस खूबी को देख सभी हैरान रह गए थे। भगवान में साध्वी की लगन देख उनके गुरू पं. श्री गोविन्दरामजी मिश्र ने उन्हें ”किशोरी जी” की उपाधि दी।

!function(f,b,e,v,n,t,s)
{if(f.fbq)return;n=f.fbq=function(){n.callMethod?
n.callMethod.apply(n,arguments):n.queue.push(arguments)};
if(!f._fbq)f._fbq=n;n.push=n;n.loaded=!0;n.version=’2.0′;
n.queue=[];t=b.createElement(e);t.async=!0;
t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window, document,’script’,
‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘444470064056909’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);

(News Source :Except add some keywords for the headline, this story has not been edited by Rashtra News staff and is published from a www.jansatta.com feed )
Latest Sports News | Latest Business News | Latest World News | Latest Bhutan News | Latest Nepal News | Latest Education News | Latest Technology News

LEAVE A REPLY